Page 2 of 6

मानव-शरीर(Manav sarer )part15

क्योंकि उसको उनकी अनुभूति होने लगती है। जब प्रकृति होने लगी। तो वह उसको अपने में ग्रहण करने लगता है । जब ग्रहण करता है। से वह तप्त रहता है । नाना वृक्षों के फलों के जो पोषक त जब… Continue Reading →

मानव-शरीर(Manav sarer )part14

ब्रह्मरन्ध्र के निचले विभाग में पीपल के पत्ते के अर्ध-भाग के सामान एक स्थल होता है। उसमें तीन प्रकार की नाड़ियां होती है २. सिम भुक् और ३. ९ वेतबेतु । इनका सम्बन्ध १-एंड, २-पिगला ? है । उन नदियों… Continue Reading →

मानव-शरीर(Manav sarer )part13

जीवन सुखी बने, तथा आनंदित बने । जब मन और प्राण एक स्थली । जाकर सुचारू रूप से कार्य करने लगते हैं, तो मानव के शरीर में कोई नहीं रहता। इसलिए मानसिक चिन्तन ऊंचा होना चाहिए। मन और प्राण को… Continue Reading →

मानव-शरीर(Manav sarer )part12

बाणी भी उसके साथ कार्य करती है या नहीं ? या उसके जाग्रत होने के पश्चात् वाणी में कुछ प्रोज आ जाता है, या अात्मिक शक्ति का जागरण हो जाता है ? ऋतम्भरा द्वारा परमात्मा से मिलान होने पर योगी… Continue Reading →

मानव-शरीर(Manav sarer )part11

हो करके प्रभु के आनंद में बिखरने लगा है । वे कर्म प्रकृति के अ्रांगन में रमण कर जाते हैं, (उस) आत्मा के समीप नहीं रहते। (पच्चीसवां पुष्प ११-११-७२ ई०) मन और प्राण को एक सूत्र में लाने के लिए… Continue Reading →

मानव-शरीर(Manav sarer )part10

प्राचार्य आदि का निर्णय कराता है । वेदों का भी चार विभागों में विभा- जन कर देता है। धारणा नाम उसी को कहा है, जब पुनः से संसार एक प्रीत करके मन में प्राण का मिलान हो जाता है। प्रकृति… Continue Reading →

मानव-शरीर(Manav sarer )part9

प्रश्न यह गाता है कि आत्मा के निकल जाने पर तो यह शरीर शून्य होकर मृत्यु को प्राप्त हो जाता है तो फिर उस शरीर का क्या बनेगा। इसका उत्तर यह है कि वह पवित्र आत्मा, जिसका सम्बन्ध अन्त रिक्ष… Continue Reading →

मानव-शरीर(Manav sarer )part8

क. इसके पश्चात मूलाधार में रमण करता है तो आत्मा की रूप रेखा बहुत सूक्ष्म वन जाती है । सूक्ष्म वन जाने के कारण वहां पहुंचती है, जिसको रीढ़ कहते हैं। इसको “भूरभुव: निरीक्षणी रूपकम्’ कहते हैं । योगियों ने… Continue Reading →

मानव-शरीर(Manav sarer )part7

जब मानव कमेंट करता हुशार ध्यान में लीन हो जाता है, मग्न होने के पश्चात् प्रागे समाधि में लय होने लगता है, तो इसकी यह जानने की इच्छा होती है कि प्रात्मा गौर प्राणों की संधि कैसे होती है (… Continue Reading →

« Older posts Newer posts »

© 2019 Made in Travels

All Rights Reserved — Up ↑